Posted in कविता और कहानी साहित्य

आया फागुन मास

मस्ती छाई सभी पर, आया फागुन मास । फागुन में फगुनाए सब, मन में नव उल्लास।। मनवा बहका जाए है, फगुनाई का ताव। इसीलिए तो इन दिनों, बहके मन के भाव।। रंगों की बौछार है, रंग ले तन मन मीत। फागुन में रंग संग, रंग जाती है प्रीत।। होली में…

Continue Reading...
Posted in कविता और कहानी साहित्य

दिल ये लाचार पड़ा है दवा नहीं करते

दिल ये लाचार पड़ा है दवा नहीं करते ठीक हो जायेगा जल्दी ,दुआ नहीं करते देते हो रोज़ परिंदों को तो पानी भी मगर क्यों भला कैद से इनको,रिहा नहीं करते पता तो था ही नहीं मर्म इस खामोशी का प्यार करते हैं जो दिल से ,कहा नहीं करते बस…

Continue Reading...
Posted in सभी रचनायें साहित्य

भगोरिया पर्व :लोक गीत,संगीत,नृत्य और प्रकृति की सौंदर्यता

भगोरिया पर्व मध्यप्रदेश के धार,झाबुआ ,आलीराजपुर ,खरगोन आदि के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में नृत्य ,संगीत ,लोक गायन ,एक जैसे ड्रेस कोड वाले सुन्दर परिधान,चांदी के सुन्दर पहनावे के साथ धूमधाम से मनाया जाता है | भगोरिया पर लगने वाले हाट -बाजार मेले का रूप ले लेते है | मेले में अपनी जरुरत…

Continue Reading...
Posted in कविता और कहानी साहित्य साहित्यकार और रचनायें

नरेन्द्र से नरेन्द्र मोदी ( प्रधान मन्त्री ) तक

नरेन्द्र ( एक सामान्य नागरिक ) से नरेन्द्र मोदी ( प्रधान मन्त्री ) तक ” भारत के लोकप्रिय प्रधान मंत्री को प्रेषित हैं, एक सामान्य नागरिक के परामर्श -विचार। यदि इन पर दृष्टि डाल लें तो निश्चित होगा , भारतीय विकास में एक अद्भुत चमत्कार।। सर्वप्रथम देश की सीमाओं को…

Continue Reading...