मुहब्बत करने वालों में गदर देख लेना

मुहब्बत करने वालों में गदर देख लेना ।

आँधी औ तूफाँ का कहर देख लेना ।।

जिंदगी की कशमकश में मुकद्दर आजमाने वालों ।

तुम अपनों के मुँह में ज़हर देख लेना ।।

अगर हौसला टूट जाये मुहब्बत करने वालों ।

तुम समन्दर में उठती लहर देख लेना  ।।

जब रात नींद ना आये याद सताये ।

तुम उठकर घड़ी में पहर देख लेना ।।

वफाओं को बेवफाई क्यूँ सता रही “नवल” ।

तुम बेवफाओं का नया शहर देख लेना ।।

निहाल छीपा “नवल”

गाडरवारा

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *