शिवलिंग और कैलाश पर्वत में स्थापित रहस्यमय अलौकिक शक्ति का सत्य |

इसे विडम्बना कहें कि या दुर्भाग्य की हम अपनी परम्पराओं का दम भरते तो हैं ।लकीर को पीटते है पर कभी उन परम्परों की गहराई में उतरने की कोशिश नहीं करते और इस तरह हम अपनी परम्पराओं का अपने ही घर में अवहेलना सी कर देते हैं ।

आइए आज जानते हैं घर घर पूजे जाने वाले शिवलिंग और हमारे चारों तरफ प्रहरी बने कैलाश पर्वत की आलोकिक और रहस्य मय शक्तियों के बारे में ।

पुराणों के अनुसार जब कुछ भी नहीं था तो परमातमा ने खुद को परकट किया और अपने में एक स्त्री शक्ति (woman power) को स्थान देकर पृथक किया| अन संयोग से एक अंडज़ की उतपति हुई जो फैलता गया और बिग बैंग थेओरी (big bang theory) को सार्थक करता हुया फैलता गया और अभी तक फेल रहा है| स्त्री पुरुष ने स्वयं को तीन भागों में पृथक कर त्रिदेवों और त्रिशक्तियों को स्थान दिया| परम भगवान शिव (bhagwan shri shiv ji) ने ब्रह्माण्ड सृजणी शक्ति के साथ एक लिंग में प्रकट हुये जिसका ना कोई आदि था और ना ही कोई अंत| विष्णु और ब्रहामा जी में प्रतियोगिता (competition) हुई और लिंग ने कहा कि जो इस आकर का आदि या अंत पा लेगा वो सर्वपूजित होगा| अंत सत्य की वजह से विष्णु जीते।

उस ब्रह्माण्ड सृजनी शक्ति के साथ शिव जी ने लिंग रूप में धरती पर निवास किया। वह शक्ति और कुछ नहीं परमाणु (atom) और अणु शक्ति थी जिससे आज एटम बम्ब बनाये जाते हैं और इसकी शक्ति से पहले ब्रह्मास्त्र बनते थे। शिवलिंग का ऐसा आकार भी इस लिए है ताकि इसके अंदर होने वाले विस्फोटों और उनकी ऊर्जा को अंदर ही रखा जा सके। ऐसा ही आकर आत्मा (soul) का है।

भारत का रेडियोएक्टिविटी मैप (radioactive map) उठा लो तो हैरान हो जाओगे की भारत सरकार के नुक्लिएर रिएक्टर के अलावा सभी ज्योत्रिलिंगो के स्थानों पर सबसे ज्यादा रेडिएशन (radiation) पाया जाता है | शिवलिंग और कुछ नहीं बल्कि न्यूक्लिअर रिएक्टर्स (nuclear reactor) ही हैं तभी उनपर जल चढ़ाया जाता है ताकि वो शांत रहे। महादेव के सभी प्रिय पदार्थ जैसे किए बिल्व पत्र, आक, आकमद, धतूरा, गुड़हल, आदि सभी न्यूक्लिअर एनर्जी (nuclear energy) सोखने वाले हैं | क्यूंकि शिवलिंग पर चढ़ा पानी भी रिएक्टिव हो जाता है तभी जल निकासी नलिका को लांघा नहीं जाता | भाभा एटॉमिक रिएक्टर का डिज़ाइन भी शिव लिंग की तरह है |

शिवलिंग पर चढ़ाया हुआ जल नदी के बहते हुए जल के साथ मिल कर औषधि का रूप ले लेता है | तभी हमारे बुजुर्ग हम लोगों से कहते कि महादेव शिव शंकर अगर नराज हो जाएंगे तो प्रलय आ जाए गी |

 (एक्सिस मुंडी )

एक्सिस मुंडी को ब्रह्मांड का केंद्र, दुनिया की नाभि या आकाशीय ध्रुव और भौगोलिक ध्रुव के रूप में, यह आकाश और पृथ्वी के बीच संबंध का एक बिंदु है जहाँ चारों दिशाएं मिल जाती हैं। और यह नाम, असली और महान, दुनिया के सबसे पवित्र और सबसे रहस्यमय पहाड़ों में से एक कैलाश पर्वत (kailash mountain) से सम्बंधित हैं। एक्सिस मुंडी वह स्थान है अलौकिक शक्ति का प्रवाह होता है और आप उन शक्तियों के साथ संपर्क कर सकते हैं रूसिया के वैज्ञानिक (russian scientist) ने वह स्थान कैलाश पर्वत बताया है।

अप्राकृतिक शक्तियों (un natural powers) का भण्डारक कैलाश पर्वत चार महान नदियों (sea) के स्त्रोतों से घिरा है सिंध, ब्रह्मपुत्र, सतलज और कर्णाली या घाघरा तथा दो सरोवर इसके आधार हैं पहला मानसरोवर जो दुनिया की शुद्ध पानी की उच्चतम झीलों में से एक है और जिसका आकर सूर्य के सामान है तथा राक्षस झील जो दुनिया की खारे पानी की उच्चतम झीलों में से एक है और जिसका आकार चन्द्र के सामान है। ये दोनों झीलें सौर और चंद्र बल को प्रदर्शित करते हैं जिसका सम्बन्ध सकारात्मक (positive) और नकारात्मक उर्जा (negative energy) से है। जब दक्षिण चेहरे से देखते हैं तो एक स्वस्तिक चिन्ह वास्तव में देखा जा सकता है.

कैलाश पर्वत और उसकेआस पास के बातावरण पर अध्यन कर रहे रूसिया के वैज्ञानिक  और उनकी टीम ने तिब्बत के मंदिरों में धर्मं गुरुओं से मुलाकात की उन्होंने बताया कैलाश पर्वत के चारों ओर एक अलौकिक शक्ति का प्रवाह होता है जिसमे तपस्वी आज भी आध्यात्मिक गुरुओं के साथ  संपर्क करते है।

कैलाश पर्वत और उसके आस पास के बातावरण पर रूसिया के वैज्ञानिकों ने अध्ययन किया जिसको कोई नकार नहीं सकता उन्होंने यह बताया की कैलाश पर्वत एक विशाल मानव निर्मित पिरामिड (human made pyramid) है जो लगभग एक सौ छोटे पिरामिडों का केंद्र है। इस क्षेत्र में पिरामिड का विचार नया नहीं है।यह कालातीत संस्कृत महाकाव्य रामायण (ramayan) के समय से है।

रूसिया के वैज्ञानिकों का दावा है की कैलाश पर्वत प्रकृति द्वारा निर्मित सबसे उच्चतम पिरामिड (nature made highest quality pyramid) है। जिसको तीन साल पहले चाइना के वैज्ञानिकों (chinese scientists) द्वारा सरकारी चाइनीज़ प्रेस में नकार दिया था। आगे कहते हैं” कैलाश पर्वत दुनिया का सबसे बड़ा रहस्यमयी, पवित्र स्थान है जिसके आस पास अप्राकृतिक शक्तियों का भण्डार है। इस पवित्र पर्वत सभी धर्मों ने अलग अलग नाम दिए हैं।” रूसिया वैज्ञानिकों की यह रिपोर्ट प्रकाशित की गयी थी।

हमारी परम्पराओं के पीछे कितना गहन विज्ञान छिपा हुआ है | ये इस देश का दुर्भाग्य है कि हमारी परम्पराओं को समझने के लिए जिस विज्ञान की आवश्यकता है वो हमें पढ़ाया नहीं जाता और विज्ञान के नाम पर जो हमें पढ़ाया जा रहा है उस से हम अपनी परम्पराओं को समझ नहीं सकते |

जिस संस्कृति की कोख से हमने जन्म लिया है वो सनातन है, विज्ञान को परम्पराओं का जामा इसलिए पहनाया गया है ताकि वो प्रचलन बन जाए और हम भारतवासी सदा वैज्ञानिक जीवन जीते रहें |

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *