Latest Updates

बुजुर्ग नींव घर की

शोभा शाम को सब्जी खरीदने के लिए बाजार गई होती है तभी उसकी मुलाकात उसकी एक पुरानी सहेली से होती है। दोनों सहेलियां बड़ी गर्म जोशी के साथ मिलती हैं। लगभग 10 साल हो गए होंगे, दोनों को एक दूसरे के बिना देखे हुए लेकिन देखते ही दोनों तुरंत पहचान लेती है। उसकी सहेली कोमल…

Read More

26जून अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस

अपनों से प्रेम करो, गफलत से दूर रहो। नशे ने उजाड़ दी, कई जिंदगानियां। भूल गए फर्ज क्या, दूध का कर्ज क्या,  छाती से चिपका कर, गायी थी लोरियां । दुर्घटना ऐसी घटी, माता की छाती फटी , नशे ने माताओं की, उजाड़ दी गोंदियां । फेरे जब सात लिए, जन्मो को साथ भये,  सपने…

Read More

गर्मी पर दोहे : दुष्यंत कुमार

बढ़ रही है गर्मी, द्वार खड़ी है मौत। न जागे गर नींद से, मनाओगे रोज शोक।।१।। काट जंगल वनों को, बन गए खुद यमराज। फँसोगे अपने जाल में, वरना आ जाओ बाज।।२।। नौतपा में दिखी गर्मी, याद आ गयी नानी। पता चला इस दौर में, कितना उपयोगी पानी।।३।। जीव जन्तु भी मर रहे, खुद सराबोर…

Read More

स्योरिटी

                 रूपा के काॅलेज की छुट्टियाँ चल रही थीं। उसने सोचा की खाली समय में खाली बैठने से अच्छा है की कुछ काम ही कर लिया जाये।एक सहेली से बात करके दोनों ने एक प्राइवेट स्कूल में बात की और  फिर इन्टरव्यू के बाद  दोनों का ही उसी स्कूल में सैलेक्शन हो गया। दोनों ने…

Read More

लोग

लोग होते हैं जो ढूँढते हैं अपनी कमी दूसरों में। हँसते हैं झूठी हँसी छिपाते हैं अपनी दोहरी शख्स़ियत करते हैं दिखावा आदमीयत का। लोग नज़र आते हैं करते हुए काना-फूसी चुगली करते ज़हर उगलते मीठी ज़बान से। लोगों की किस्मों का ही तो भरम है करें किससे प्रेम भरोसा करें किस पर झूठ ओढ़े…

Read More

तितली के पंख : अरुण कुमार शर्मा

क्या, तितली के पंख को तुमने, हाथ लगा कर देखा है , जिसपर वो मंडराती है, उस फल को खाते देखा है ! क्या देखी है “अरुण” कभी, तनहाई सूरज की बोलो , क्या तुमने रवि की किरणों को, पास से जाकर देखा है! चंदा हँसता है खिलकर, और तारे मुसकाते तो हैं , मुझे…

Read More

परछाईं

घर में प्रवेश करते ही त्रिशा माँ से लिपट कर उत्साह से चहक उठी ‘माँ मेरा प्रमोशन हो गयाl’ मिठाई का एक टुकड़ा माँ के मुँह में डाल मिश्राजी के सीने से लग कर उनका मुँह मीठा करते हुए उसने कहा ‘पापा आपके आशीर्वाद से इंक्रीमेंट भी अच्छा मिला हैl’ पापा ने त्रिशा के सिर…

Read More

पत्नी अपने पति को बहुत प्यार से कहती है

जैसे शिव जी पार्वती के बिना अधूरे विष्णु जी लक्ष्मी के बिना अधूरे ठीक वैसे ही हर पति बिना पत्नी के अधूरे  “लड़की “इज्जत माता पिता के घर की “लड़की “ सिर का ताज ससुराल की नारी “ आन बान शान परिवार की शादी के बाद कुछ यूँ कहती अपने पति से “ माँग मेरी…

Read More

सच्चाई

कपिल जी ने अपनी बेटी का विवाह बड़े धूमधाम से किया। लेकिन विवाह के दो महीने पश्चात ही बेटी ससुराल छोड़कर मायके आ धमकी। दोनों पक्षों के बीच में वाद विवाद भी खूब हुए। कानूनी कार्रवाई कर कर फैसला कर लिया गया। अब कपिल जी अपनी बेटी के लिए किसी दूसरे अच्छे रिश्ते की तलाश…

Read More

बुर्खा और घूँघट प्रथा —-एक सामाजिक बुराई

कभी तो देखे अपनी माँ को, जो बुर्खा मुख पर ओढ़े थी , कभी बोलती बिना जुबां के, माँ कब तू मुख खोलेगी ! क्या मेरी जवानी और बुढ़ापा तेरी तरह ही गुजरेगा , जो तेरे था साथ हुआ, क्या वो सब मुझपर बीतेगा ! कैसे गर्मी धूप में भी तू, सर ढक कर के…

Read More