Latest Updates

श्री चौरासिया ब्राह्मण शिक्षा समिति का शपथ ग्रहण समारोह संपन्न

(नयी कार्यकारिणी ने शपथ लेकर पूर्ण समर्पण भाव के कार्य करने का किया वादा) कल दिनांक 14.04.2024 को श्री चौरासिया ब्राह्मण शिक्षा समिति का शपथ ग्रहण समारोह गुरुग्राम (हरियाणा) में ब्राह्मण श्रेष्ठ, समाजसेवी, दानवीर श्री सतबीर शर्मा जी (जिन्हें पिछले दिनों एक विशाल आयोजन में श्री चौरासिया ब्राह्मण समाज ने अपना सिरमौर बनाया था) के…

Read More

प्रिये नव सम्वत्सर बन आना

सभी मौसम सभी ऋतुओं को संग ले आना।प्रिये नव संवतसर बन के मेरे घर आना। सरसों के फूल बन के यादें तेरी आतीं हैं।मुझसे गेहूॅं की बालियों सी लिपट जातीं हैं। अपनी यादों के संग एक बार आ जाना,प्रिये नव संवतसर बन के मेरे घर आना।सभी मौसम सभी ऋतुओं को संग ले आना। जब भी…

Read More

श्री चौरासिया ब्राह्मण शिक्षा समिति की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी

श्री चौरासिया ब्राह्मण शिक्षा समिति के संपन्न हुए चुनाव परिणामो की सूचनामान्यवरपूर्व सूचनानुसार उपरोक्त शिक्षा समिति के संपन्न हुए चुनाव परिणामो की दिनांक 07 अप्रैल 2024 को विधिवत घोषणा की जाती है . 3 अप्रैल 2024 को नाम वापसी का दिन निर्धारित किया गया था. उससे पहले विभिन्न पदों के लिए , केवल सचिव पद…

Read More

कमी अपनी परवरिश में

मालती ने आज पूरा घर फिर सर पर उठा रखा था। ससुर जी के खत्म हो जाने के पश्चात यह अब आम बात हो गई थी। मालती की सास दयावती खून का घूंट भरकर रह जाती। मालती अपनी छोटी बहन को पढ़ाई करने के लिए अपने साथ रहना चाहती थी लेकिन घर पर जगह उपलब्ध…

Read More

वीर सावरकर : स्वतंत्रता इतिहास के अनफॉरगेटेबल हीरो

: पंकज कुमार मिश्रा, राजनीतिक विश्लेषक / पत्रकार जौनपुर, यूपी रणदीप हुड्डा नें स्वातंत्र वीर सावरकर फ़िल्म में वीर सावरकर के किरदार में ऐसे लगे है कि भविष्य में उनके मूवी के फोटो को असली सावरकर के लिये भी  उपयोग किया जाए तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। बधाई के पात्र है रणदीप हुड्डा।  हुड्डा की एक्टिंग…

Read More

अप्रेल फूल बनाया…… !

अब अप्रेल फूल कोई नहीं बनाता । पहले तो एक दिन निर्धारित कर दिया गया था कि केवल इसी दिन किसी को भी कोई भी अप्रेल फूल बना सकता है । इसी कारण से ही एक अप्रेल को लोग सतर्क हो जाते थे और कोषिष करते थे कि वे अप्रेल फूल न बन पाएं ।…

Read More

हाईवे पर ग्रीन बेल्ट के फायदे

शहरी क्षेत्रों में पेड़ों को बफर के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है जो महत्वपूर्ण मात्रा में शोर को कम करने में सक्षम हैं । पौधे की पत्ती ध्वनि क्षेत्र में कंपन करने वाले वायु अणु की गतिज ऊर्जा को पत्तियों के कंपन पैटर्न में स्थानांतरित करके ऊर्जा को अवशोषित करती है। इस…

Read More

फाल्गुन की मस्ती रंगों से हर्षोल्लासित सभी नगर व बस्ती

लेखक- डॉ.पवन शर्मा (साहित्यकार एवं लेखक) होली रंगों का तथा हँसी-खुशी का त्योहार है। यह भारत का एक प्रमुख और प्रसिद्ध त्योहार है, जो आज विश्वभर में मनाया जाने लगा है। रंगों का त्योहार कहा जाने वाला यह पर्व पारंपरिक रूप से दो दिन मनाया जाता है। पहले दिन को होलिका जलायी जाती है, जिसे…

Read More

फागुन का ये मौसम है

बृज छोड़ के मत जइयो,फागुन का ये मौसम है,मोहि और न तरसइयोफागुन का ये मौसम है। मैं जानती हूं जमुना तीर काहे तू आए,हम गोपियों के मन को कान्हा काहे चुराए, जा लौट के घर जाइयो,माखन चुराके खाइयो,पर चीर ना चुरइयो,फागुन का ये मौसम है। इस प्यार भरे गीत के छंदों की कसम है,तोहि नाचते…

Read More

इन्द्रधनुषी रंगो और उमंगों का पर्व है होली -लाल बिहारी लाल

भारत में फागुन महीने के पूर्णिंमा या पूर्णमासी के दिन हर्षोउल्लास के साथ मनाये जाने वाला विविध रंगों से भरा हुआ हिदुओं का एक प्रमुख त्योहार है-होली।होली का वृहद मायने ही पवित्र है। पौरानिक मान्यताओं के अनुसार फागुन माह के पूर्णिमा के दिन ही भगवान कृष्ण बाल्य काल में राक्षसणी पुतना का बध किया था…

Read More