Latest Updates

खुदगर्जी

रोशनी एम.बी.ए की पढ़ाई पूरी करने के बाद जॉब कर रही थी। परिवार वाले उससे शादी के लिए कहते हैं तो वह मना कर देती। रोशनी कई साल से एक लड़के के संपर्क में थी। जो उसके परिवार की हैसियत से बहुत कम था। वह दूसरे धर्म संप्रदाय से भी था। रोशनी अच्छी तरह से…

Read More

तुझे वो किरदार होना पड़ेगा.

बकाया बहुत हैं मेरे सपने तुमपे,तुम्हें बेहिसाब होना पड़ेगा , रहोगे कब तक यूं दायरों में, अब तुम्हें आसमां होना पड़ेगा !! हर्फ-हर्फ लिखते रहे “क़िस्से”, जिसके हम अपनी सांसों पर , सब समेट लो संग अपने कि, अब तुम्हें किताब होना पड़ेगा !! सुनो, सरेआम शर्मसार न कर दें कहीं वो लोग, “हमारे खत”,…

Read More

“दुकानदारी”

सज्जन सिंह शहर में कोई    बड़ा नाम तो नहीं था लेकिन विश्वास का नाम था। उनकी एक छोटी सी दुकान हुआ करती थी। खूब चलती थी। कोई सामान शहर की बड़ी से बड़ी दुकान पर नहीं मिलता तो सज्जन सिंह की दुकान पर मिल जाता। यही वजह थी कि सारा शहर उन्हे जनता था। सज्जन…

Read More