Latest Updates

हिंदी भाषा उसकी उपभाषाएँ और सम्बंधित बोलियां – सुशील कुमार शर्मा

भाषा संचार की जटिल एवं विशिष्ट प्रणाली प्राप्त करने और उपयोग करने कीक्षमता है।भाषा भगवान का दिव्य उपहार है। भाषा मनुष्य के रूप को पशुओं को अलग करती है। जॉन स्टुअर्ट मिल ने कहा कि “भाषा मस्तिष्क का प्रकाश है” आज के युग में, एक या अधिक भाषा का बुनियादी ज्ञान महत्वपूर्ण हो गया है।…

Read More

इतनी लम्बी उम्र मिली है , पर जीने का वक़्त नहीं – जय प्रकाश भाटिया

उम्र की सच्चाई इतनी लम्बी उम्र मिली है , पर जीने का वक़्त नहीं, रिश्तों की भरमार है पर रिश्तों का अस्तित्व नहीं , चेहरे पे मुस्कान सभी के, दिल में क्या है स्पष्ट नहीं, झूठी तारीफों के पुल पर , सच्चाई का वक्तव्य नहीं, जेब की दौलत लुटवाओ तो, यारों की है लाइन लगी,…

Read More

किसान असमंजस में – शिवांगी

भारत के विभिन्न राज्यो में किसान आंदोलन के बाद भी किसानो की परेशानियां ख़त्म होती नही दिख रही हैं।हजारों रुपयो का प्रीमियम भरने के बाद भी किसानो को मुआवज़ा नही मिल रहा है।यहाँ किसानो का कई करोड़ का बीमा अटका हुआ है और सरकार की ओर से अभी तक कोई सर्वे शुरू ही नही किया…

Read More

हर वक्त बस उनका ही ख्याल आया-ग़ज़ल

दूर हूँ उनसे बहुत, इत्ती बात पर भी, नहीं कभी कोई मलाल आया। हर वक्त उनकी याद रही, हर वक्त बस उनका ही ख्याल आया।। उदास पतझड़ भी कुछेक पेड़ों पर कोई-कोई कोलम-सी पत्ती ले आया। पहुँचे जब हम, उनकी गलियों में, चेहरे पर उनके गुलाल उभर आया।। सवाल कोई पुराना था उनके जहन में,जो…

Read More

मध्यम कौन?

“मध्यमवर्ग” मध्यम कौन? जो बीच का हो ! या यूँ कहें दुल्हा दुल्हीन के बीच लोकनियाँ है ! समस्याँ मध्यवर्ग की सोच में नहीं उसकी सदियों से वटवृक्ष के समान फैली साखाओं में है जो जड़ कर चुकी! अंदर ही अंदर स्तंभ बनकर! वैसे ही मध्यमवर्ग कभी जरूरतों से आगे बढ़कर नयी चुनौतिओं का सामना…

Read More

उम्मीद कभी न छोड़ना ( किरण चावला )

उम्मीद कभी न छोड़ना । अगर कश्ती भी डूब जाती है। कुछ तो बिखरता ही है । जब आँधियाँ निरतंर आती हैं । बंदे तू मुक़ाबला कर । अपनी हिम्मत और आस से । कभी भी न डगमगाना । खुद पर अपने विश्वास से । ( किरण चावला )

Read More

एक प्रधान मंत्री ऐसा भी (नरेंद्र दामोदर दास मोदी )

एक प्रधान मंत्री ऐसा भी (नरेंद्र दामोदर दास मोदी ) एक महान शक्सियत जिसकी हूँ, मैं भक्त जिसने मिसाल करी कायम चाय बेचने से लेकर प्रधान मंत्री बनने का रखना दम, जिसे विवेकानंद जी की किताबों ने दी प्रेरणा , पिलू फूल जैसे नाटक की नहीं की जा सकती कल्पना पहुँच गए हिमालय करने अध्यात्मिक…

Read More

“बदलता समय” लघु कहानी— संदीप तोमर

“बदलता समय” लघु कहानी— संदीप तोमर अर्धवार्षिक परीक्षाएं अभी-अभी खत्म हुई थी। सभी अध्यापकों ने अपने-अपने विषय की कापियों की जांच करके बच्चों को मार्क्स दिखाने शुरू कर दिए थे। जैसे ही मिस्टर मेहता ने विज्ञान की कॉपी जाँची, वे एक हाथ मे बंडल उठाये दूसरे हाथ से अपनी छड़ी टिकाते हुए दसवीं कक्षा में…

Read More

नरेन्द्र से नरेन्द्र मोदी ( प्रधान मन्त्री ) तक

नरेन्द्र ( एक सामान्य नागरिक ) से नरेन्द्र मोदी ( प्रधान मन्त्री ) तक ” भारत के लोकप्रिय प्रधान मंत्री को प्रेषित हैं, एक सामान्य नागरिक के परामर्श -विचार। यदि इन पर दृष्टि डाल लें तो निश्चित होगा , भारतीय विकास में एक अद्भुत चमत्कार।। सर्वप्रथम देश की सीमाओं को आधुनिकतम रूप से सुरक्षित कीजिये।…

Read More

गांधार की मचलती हवाएं -DR KAMINI KAMAYANI

प्रत्यंचा गांधार की मचलती हवाएं और /थिरकते इन्द्रधनुषी सपनों पर, अचानक वज्रपात करते/ हे / पितामह (भीष्म) तुझे तनिक भी हिचक न हुई । अपने जनक के अरमानों के लिए स्वयं की इच्छाओं का चिता जलाने वाला एक सामान्य अबला नारी के लिए क्यों इतना निर्मम, नि:क्षत्र हो गया ? युद्ध में जीती/पराजित /नरेश की…

Read More